DIMPLE को हराने के बाद निराश है कन्नौज, BJP सांसद SUBRAT PATHAK ने घर मे...



कन्नौज में डिंपल यादव की हार के बाद अब जनता को समझ में आ रहा है कि उनसे गलती हुई है..कन्नौज के बीजेपी सांसद  सुब्रत पाठक पर आरोप है कि उन्होंने बेचारे तहसीलदार अरविंद प्रजापति के घर पर जाकर डॉन स्टाइल में खूब उड़ा उड़ाकर मारा..

सांसद साहब जिद्दी पिक्चर के सनीदेवल कैसे बन गए..इसकी कहानी ये है कि सांसद सुब्रतपाठक ने तहसीलदार अरविंद प्रजापति को एक लिस्ट दी थी...कहा था बेटे हमारे इन लोगों को राशन दे देना...लेकिन तहसीलदार नियम कानून के मुताबिक पहले उन लोगों को राशन दे रहे थे जो पात्र थे..जिनको राशन वास्तव में मिलना चाहिए था..सांसद  सुब्रत पाठक ने पहले तहसीलदार को फोन किया..

तहसीलदार से पूछा कहां हो..मा के लाल आज तुम पेले जाओगे हमारे लोगों को राशन ना देकर तुमने सुब्रत पाठक से पंगा ले लिया है...बेचारे तहसीलदार ने एसडीएम को बताया..बेचारे एसडीएम भी डर गए..एसडीएम ने तहसीलदार से कहा बेटा जान बचानी है तो भाग जाओ..तहसील मारे डर के अपने घर भाग गया..डिंपल यादव को हराने वाले बीजेपी सांसद सुब्रत पाठक तहसीलदार का पीछा करते हुए..उसके घर पहुंच गए..

घर का दरवाजा किसी फिल्मी विलेन वाले सीन की तरह पीटा जा रहा था..घर के भीतर तहसीलदार अरविंद प्रजापति उनकी पत्नी उनके बच्चे घर के भीतर थर्र थर्र कांप रहे थे..बीवी रो रही थी..बच्चे बेड के नीचे छिप गए...पत्नी और बच्चों की जान बचाने के लिए तहसीलदार घर से बाहर निकल आया.


.बाहर कौन्नौज के सांसद साहब कुर्सी पर टांग पर टांग चढ़ाकर बैठे थे...बेचारे तहसीलदार को पहले सांसद साहब ने फिल्मी इस्टाइल में पीटा फिर उनकी गैंग ने तहसीलदार को सबक सिखाया..इस फिल्मी सीन को खुद तहसीलदार के मुंह से सुन लीजिए..ऐसी है सत्ता की हनक और आप कहते हैं समाजवादी लोग गुंडे थे..
((1 मिनट 10 सेकेंड से 2 मिनट तक बाइट लगाएंगे ))

Comments