केवल मुसलमान कोरोना फैलाते हैं ? खुली चिट्ठी ने सब खोल दिया | BHARAT EK ...

101 पूर्व नौकरशाहों ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी लिखकर रोष प्रकट किया है कि देश के कुछ हिस्सों में मुसलमानों का उत्पीड़न हो रहा है। पत्र में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन को 'गुमराह और निंदनीय' बताया गया है लेकिन मीडिया के कुछ वर्ग पर मुसलमानों के खिलाफ विद्वेष भड़काने का आरोप लगाकर उसके काम को 'बिल्कुल गैर-जिम्मेदाराना और कलंकित' करार दे दिया


मुख्यमंत्रियों के नाम लिखे खुले पत्र में कहा कि पूरा देश अप्रत्याशित पीड़ा से गुजर रहा है..हम इस महामारी से मिली पीड़ा सहकर और अपनी जान बचाकर चुनौतियों से तभी निपट सकते हैं जब एकजुट रहें और एक-दूसरे की मदद करें।' पत्र में उन मुख्यमंत्रियों की सराहना की गई है जिन्होंने सामान्य परिस्थितियों में और खास तौर से इस महामारी से निपटते हुए अपनी धर्मनिरपेक्ष पहचान कायम रखी है..

पत्र लिखने वालों में पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह, दिल्ली के पूर्व लेफ्टिनेंट गवर्नर नजीब जंग और पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त एस वाई कुरैशी समेत देश के 101 पूर्व नौकरशाह हैं पत्र में आगे कहा गया है कि बड़े दुख की बात है कि कई जगहों पर ऐसी अफवाह भी फैलाई गई कि मुसलमान अस्पतालों और स्वास्थ्य केंद्रों से भाग रहे हैं।' उन्होंने कहा कि कई जगहों से ऐसी खबरें आ रही हैं कि कोरोना संकट से निपटने के लिए सरकार की ओर से विशेष राहत सुविधाओं से भी मुसलमान परिवारों को वंचित किया जा रहा है। नौकरशाहों ने मुख्यमंत्रियों से कहा, 'हम सब आपसे राज्य में सभी लोगों से सोशल डिस्टैंसिंग, चेहरा ढंकने और हाथ धोने जैसे निर्देशों को पालन सुनिश्चित करवाने की अपील करते हैं। साथ ही उन अफवाहों के खंडन की भी जरूरत है कि हमारे देश में किसी खास समूह में ज्यादा संक्रमण है।

Comments