दैनिक जागरण की दादागिरी, शराब के साथ छापी AKHILESH की फ़ोटो..मचा बवाल | B...

दैनिक जागरण उत्तर प्रदेश का बहुत बड़ा अखबार है..गुप्ता जी इसके मालिक हैं..इसकी खबरें बताती हैं ये भारतीय जनता पार्टी से नजदीकी रखता है या फिर सरकार के दबाव में ही काम करता है..इस अखबार ने अखिलेश यादव की तस्वीर शराब की खबर के साथ छापी है...जो अखिलेश यादव किसी प्रकार का नशा नहीं करते जो चिलम भांग और सुर्ती से कोसों से दूर रहते हैं उनकी तस्वीर को शराब की खबर के साथ छाप दी है..अखबर ने लिखा है कि लॉकडाउन के बाद कुछ दिन सस्ती मिल सकती है शराब और अखिलेश की फोटो छापी है..खबर देखते ही ऐसा लग रहा है कि अखिलेश यादव शराब के सस्ता होने का इंतजार कर रहे हैं..खबर के भीतर लिखा है प्रदेश सरकार ने देशी विदेशी व बीयर के कारोबारियों को बड़ी राहत दी है..कोरोना के चलते बंद शराब की दुकानें लॉकडाउन खत्म होते ही शुरू होंगी...

समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने खबर पढ़ने के बाद अखबार जला दिए..समाजवादी पार्टी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले और अखिलेश के करीबी मनीष जागन अग्रवाल ने खबर पढ़ते ही अखबार जला दिया..और भारत एक सोच से बात करते हुए दैनिक जागरण को बीजेपी का मुखपत्र बताया..और तत्काल अखिलेश यादव और पार्टी से माफी मांगने की चेतावनी दी..

समाजवादी पार्टी के ही शैलेंद्र प्रताप सिंह ने भी दैनिक जागरण अखबार जलाकर विरोध किया और लिखा कि..Dainik Jagran अखबार समूह सावधान तत्काल राष्ट्रीय अध्यक्ष Akhilesh Yadav जी से गलत तस्वीर छापने पर माफी मांगे वरना हम समाजवादी पुराने तेवर में आजायेंगे और दैनिक जागरण के खिलाफ़ हल्ला बोल अभियान शुरू कर देंगे..दैनिक जागरण अख़बार बाजार से गयाब हो जाएगा..
समाजवादी पार्टी ने भी अखबार की इस घृणित साजिश की निंदा कि.. और लिखा कि दैनिक जागरण अखबार के गोरखपुर संस्करण में  राष्ट्रीय अध्यक्ष समाजवादी पार्टी एवं पूर्व मुख्यमंत्री माननीय सांसद श्री अखिलेश यादव जी की तस्वीर गलत तरीके से छापने पर माफी मांगे समूह। दोषी पर हो कार्रवाई। नहीं तो होगी वैधानिक कार्रवाई एवं बहिष्कार। घोर निंदनीय!..सुनील सिंह साजन..जूही सिंह..पूजा शुक्ला समेत तमाम समाजवादियों ने दैनिक जागरण की घोण निंदा की है..और आपको जानकर हैरानी होगी कि लाखनऊ एक एडीशन में खबर सही छपी है..इसमें अखिलेश की फोटो नहीं है..ये देखिए..जबकि जब योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर में अखबार की कॉपी छपती है तो वहां अखिलेश का फोटो लगा दिया जाता है...अखबार ऐसा साजिशन किया है या फिर मानवीय भूल ये अखबार जाने लेकिन योगी आदित्यानाथ के गोरखपुर से छपने वाली कॉपी में अखिलेश का फोटो शराब की खबर के साथ छापना काई सवाल छोड़ता है..

------------------------

Comments