3 मई तक LOCKDOWNऔर बढ़ाया, MODI ने क्या झूठ बोला देखिये | BHARAT EK SOCH

साथियों भारत में लॉकडाउन 19 दिन के लिए बढ़ा दिया गया है..यानी अब 3 मई तक लोगों को घरों में ही रहना होगा..

लॉकडाउन बढ़ाने के सिवा भारत के पास कोई दूसरा चारा भी नहीं था..लेकिन पीठ थपथपाने की आदत नेताओं की कभी जाती नहीं है..मोदी जी कहते हैं जब भारत में एक भी केस नहीं था तब से एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग जारी है...तब 14 दिन तक लोगों को कोरंटाइन रखा जा रहा है..
जब एक भी केस नहीं था तब से जांच शुरू कर दी थी तो फिर भारत में कोरोना कहां से आ गया..केरल में पहला कोरोना पॉजिटिव 30 जनवरी को मिला था.. कौन जिम्मेदार है इसका..सरकार इतनी मुस्तैद थी तो कोरोना भारत के भीतर कैसे पहुंचा..वो जो मजदूर सड़कों पर सैकड़ों किसी पैदल चलकर भूखे प्यासे भागे हैं वो तो लाए नहीं थे..यानी आपकी एयरपोर्ट की मशीनें ठीक नहीं थीं..कैसे विदेश से कोरोना आ गया.. 30 जनवरी को केरल में पहला केस मिला था..तो क्या आप 15 दिसंबर से लोगों को क्वारंटाइन करके लोगों को रखे हुए थे..जवाब है नहीं दिसंबर में भारत के भीतर कोरोना की कोई सुगबुगाहट नहीं थी..

भारत में 15 मार्च तक 100 मरीज हो चुके थे..10 से 15 मार्च के बीच कनिका कपूर लंदन से लखनऊ आई थीं ..20 मार्च को वो कोरोना पॉजिटिव पाई गईं..क्या कनिका कपूर को क्वारंटटाइन किया गया था..जवाब है नहीं..कनिका कपूर तमाम नेताओं के बीच पार्टियां कर रही थीं..राष्ट्रपति तक से मिल आई थीं..ये थी उस समय कोरोना के लिए गंभीरता..
वियो- आप और सब छोड़ दीजिए..30 जनवरी को भारत में कोरोना का पहला केस मिला था..चीन में कोरोना से हाहाकार था..उसके 25 दिन बाद यानी 24 फरवरी को  भारत में गरीबों को दीवारों के पीछे छिपाकर..गुजरात से दिल्ली तक देश नमस्ते ट्रंप के जश्न में डूबा था..जिस अमेरिका में लोग भुट्टे जैसे तड़प तड़पकर मर रहे हैं..वहां से ट्रंप के साथ हजारों लोग आए थे..और भारत में लाखों नमस्ते ट्रंप का हिस्सा बने थे..आज लॉकडाउन ही समस्या का समाधान है लेकिन कोई अपनी पीठ उंची  करे कि वो कोरोना को बहुत पहले समझ चुका था..कोई दूरदर्शी था तो इस बहकावे में ना आएं..घर में रहें..सुरक्षित रहें..क्योंकि सरकार के पास ना पीपीई किट हैं ना ही अस्पतालों में व्यवस्था है..भाषण दिए जाएं तो ताली बजाइये लेकिन कोरोना से दूर रहिए वर्ना आंटा दाल का भाव पता चल जाएगा.

Comments