अखिलेश का घर तोड़ने वाले बेनकाब.साजिश के तहत अखिलेश को घेरा



समाजवादी पार्टी अखिलेश के बंगले में हुई तोड़फोड़ को साजिश बता रही है और सवाल पूछ रही है..


सवाल -1- यूपी का राज्य संपत्ति विभाग अपने साथ जबरन मीडिया को लेकर अखिलेश के बंगले के भीतर क्यों गया..क्या राज्य संपत्ति विभाग को पहले से पता था कि भीतर मसालेदार न्यूज इंतजार कर रही है..


सवाल- 2- तीन तारीख को बंगला खाली किया गया तो 9 तारीख तक राज्य संपत्ति विभाग किसका इंतजार करता रहा



सवाल-3- 6 दिन तक क्या अखिलेश के बंगले के भीतर कोई साजिश रची जा रही थी..बीजेपी के नेता बंगला खोले जाने से पहले लखनऊ की मीडिया अखिलेश के घर के भीतर जाने की रिक्वेस्ट क्यों कर रहे थे


सवाल-4- सपा का कहना है कि 6 दिन तक अखिलेश के बंगले के भीतर बीजेपी ने तोड़फोड़ करवाई..
क्या आप अपना किराए का घर बदलते समय अपना पंखा अपना कूलर अपना एसी..अपना बैट अपना लूडो अपना कैरम लेकर नहीं जाते 



सवाल-5- क्या आप अपना बिस्तर अपना बेड अपनी कुर्सी मेज लेकर नहीं जाते अगर आप ये सब लेकर नहीं जाते तो अखिलेश ने ले जाकर गलत किया है..



सबसे बड़ी बात ये है कि घर में ईटा गुम्मा टूटने और खाली घर के कबाड़ को राज्यपाल ने देश पर मंडरा रहे खतरे जैसा लिया है..और योगी को चिट्ठी लिखकर अखिलेश के बंगले की जांच कराने की मांग कर दी है..लेकिन अखिलेश ये जांच चाहते हैं..



यूपी की राजनीति अखिलेश की नल की टोटी पर आकर अटक गई है...यपी की पूरी सत्ता सत्ता विहीन पूर्व मुख्यमंत्री की घर की ईंटे गिनने में लग गई है..कहा था..महिलाओं को सुरसा देंगे..नौकरी देंगे..लैपटॉप देंगे साथ में फ्री डाटा देंगे..पूर्वाचल एक्सप्रेस बना देंगे..सड़कों के गड्डे भर देंगे..लेकिन दिया क्या..




काम क्या हुआ शून्य बटा सन्नाटा..क्योंकि योगी ने आज भी अखिलेश का बनवाया हुआ आलमबाग बस अड्डे का उद्घाटन किया है..और इससे पहले दोबार अखिलेश की मेट्रो का उद्घाटन किया गया....इसके अलावा अब तक पार्कों में बच्चों को परेशान करने के और मुर्गियों की दुकानें बंद कराने के अलावा कुछ नहीं किया है...




ध्यान रखिये यूपी में तीन घोषित मुख्यमंत्री हैं...एक बीजेपी का राज्यपाल और केंद्र में खुद बीजेपी की सरकार ..यानी योगी सरकार चार सिलेंडर वाले इंजन पर नहीं 5 सिलेंडर वाले इंजन पर चल रही है..और काम क्या हुआ खुद ही तय करिए..हम हर चीज नहीं बता सकते..



Comments