दक्षिण कोरिया पहुंचीं ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप


CNN - IMAGE

दक्षिण कोरिया एक ऐसी धुरी बन गया है जिसके इर्द गिर्द अमेरिका और उत्तर कोरिया दोनों घूम रहे हैं..अमेरिका भी दक्षिण कोरिया को अपने पाले में रखना चाहता है..और किम जोंग भी दक्षिण कोरिया को फुसलाकर अपना बनाकर रखना चाहता है...लेकिन इस पालेबाजी और खेमेबाजी के बीच युद्ध की संभावनाएं कम नहीं हो रही थीं...दक्षिण कोरिया किसी के भी पाले में रहे..युद्ध का खतरा हमेशा मंडरा रहा है..लेकिन अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप भविष्य के विनाशक युद्ध को रोकने की एक पहल करने के लिए दक्षिण कोरिया में शांति के लिए खेले जा रहे विंटर ओलंपिक के समापन समारोह में हिस्सा लेने के लिए पहुंच चुकी हैं...इवांका ट्रंप ने  दक्षिण कोरिया पहुंचकर कहा...


   '' अमेरिकी डेलीगेशन के साथ दक्षिण कोरिया आना मेरे लिए सम्मान की बात है..मैं विंटर ओलंपिक गेम के लिए बहुत उत्साहित हूं..और यूएसए की टीम की उत्साहवर्धन करूंगी..मेरा जोरदार स्वागत किया गया उसके लिए आभारी हूं..और आगे आने वाले दिन भी शानदार बीतेंगे "



अमेरिका किम को सीधी भाषा में शांति की बात समझाना चाहता है...लेकिन किम जोंग दक्षिण कोरिया को अपने पाले में लेकर हल्लाबोल करने की मंशा रखता है..किम दक्षिण कोरिया से दस्ती और अमेरिका की तबाही के सपने देख रहा है...ऐसे में ट्रंप की सलाहकार बेटी इवांका ट्रंप का दक्षिण कोरिया दौरा बहुत महत्वपूर्ण माना जा रहा है...क्योंकि एक तरफ गेम की ओपनिंग सेरेमनी में किम की बहन थी तो क्लोजिंग सेरेमनी में ट्रंप की बेटी अगुआई करने के लिए दक्षिण कोरिया पहुंच चुकी हैं.. इवांका ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी हैं...और सामाजिक कामों और खूबसूरती के लिए जानी जाती हैं..इवांका अपने पिता डोलनाल्ड ट्रंप की मदद भी करती हैं...किम और ट्रंप की दुश्मनी में इवांका की एंट्री हो चुकी है किम की तरफ से उसकी बहन किम यो जोंग ने मोर्चा संभाल रखा है तो ट्रंप की तरफ से उनकी बेटी सामने आ गई हैं..विंटर ओलंपकि खेल..इस बार..सियासी अखाड़े में बदल गया है..इवांका ट्रंप के दक्षिण कोरिया पहुंचने के साथ ही उत्तर कोरिया में सियासी गर्मी बढ़ गई है..दक्षिण कोरिया में मौजूद इवांका उत्तर कोरिया के प्योंगयांग में बैठे किम से सिर्फ 192 किमी की दूरी पर ठहरी हैं..इसीलिए इवांका की विश्व स्तरीय सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कर दिेए गए हैं..दक्षिण कोरिया में 23वां विंटर ओलंपिक 9 फरवरी को शुरू हुआ था..जो 25 फरवरी तक चलेगा...ये इतिहास में सबसे बड़ा विंटर ओलंपिक है...विंटर ओलंपिक खेलों को आयोजित करने वाला प्योंगयोंग शहर साल 1994 में नॉर्वे खेलों के बाद सबसे ठंडा शहर है...इस ओलंपिक में 92 देशों के कुल 2,925 खिलाड़ियों ने भाग लिया है..और खेलों के साथ राजनीति भी खूब हुई..किम के साथ रिश्तों की डोर मजबूत करने की कोशिशें की गईं....ये विंटर ओलंपिक कूटनीति के दांव पेंचों के लिए याद रखा जाएगा.. जब किम जोंग की बहन 9 फरवरी को विंटर ओलंपकि की ओपनिंग समारोह में दक्षिण कोरिया पहंची थी तो पूरी दुनिया में सिर्फ किम जोंग और उसकी बहन किम यो जोग की ही चर्चा थी..अब दक्षिण कोरिया की उसी धरती पर इवांकी की एंट्री ने माहौल फिर गर्म कर दिया है,.और विदेश मामलों के जानकार इसे साधारण दौरा या खेलों के प्रतिनिधित्व से बिल्कुल नहीं जोड़ रहे हैं...ये सीधी सा कूटनीतिक दौरा है..

Comments