अभी समय सवाल पूछने का नहीं है | योगी सरकार का ट्रायल रन चल रहा है..



        
जो मानकर चल रहे हैं यूपी बहुत जल्दी बदल जाएगा..वैसे सपनों को दिवा स्वप्न ही समझिये.. पार्टियों का चश्मा उतारकर तस्वीर नंगी आंखों से देखिए...न अखेलश सरकार में यूपी में दंगे रुके थे..ना तो माया सरकार में दंगे रूके थे..ना ही मुलायम सरकार में..और ना ही योगी सरकार में दंगे रुक रहे हैं..हम नई सरकार और नए मुख्यमंत्री की नेक नियती का हवाला देकर शब्दों की हेराफेरी भले कर लें..भले हम हेडलाइन ये बना लें कि योगी जी को बदनाम ना करो..भले हम क्रोमा और वाइप में योगी के भगवा दुश्मन या योगी की राह के रोड़े फर्जी भगवाधारी लिख लें लेकिन सच यही है कि ना तो अराजकता सपा सरकार में रुखी थी..ना ही बीजेपी की योगी सरकार में रुकी है..फर्क इतना है कि सपा सरकार को आप गुंडागर्दी की जनक या गुंडों की आविष्कारक कह सकते हैं..और अगर शब्द कानों में ना चुभें तो थोड़ी सी असुविधा से ही सही..बीजेपी सरकार को उसी गुंडई आविष्कार का पालन पोषण करने वाला कह सकते हैं...


 
        सरकार और निजाम नया होने के नाते योगी सरकार को पारिस्थितिक लाभ दिया जा सकता है..लेकिन राजा राजा होता है..किसी की जान की कीमत..किसी की इज्जत की कीमत..किसी का लुटा हुआ आत्मसम्मान नहीं जानता कि राजा बदल गया है..अगर राज्य में पत्ता भी हिलता है तो जिम्मेदारी राजा की होती है..लेकिन मीडिया के लिए योगी जिम्मेदार नहीं हैं...सहारनपुर में SSP लव कुमार की कोठी पर लगभग ढाई घंटे बीजेपी सांसद लखनपाल की सरगनाई में भगवा गुंडे तोड़फोड़ करते रहे एक SSP की पत्नी..एक IPS की बीवी घर के भीतर सहमी बैठी रही..और लखनपाल जैसा गुडा सांसद घायल पिक्चर के कात्या (डैनी) की तरह तोड़फोड़ करके चला जाता है..लेकिन ये राजनीतिक बंदिशें ही हैं कि एक IPS शनीदेवल वाला डायलॉग मार ही नहीं पाता..(कि लोगों को डराकर वो जीता है जिसकी हड्डियों में पानी भरा होता है..) खैर बात बदले की नहीं है..योगी जी कहते हैं कि जो भी कानून अपने हाथ में लेगा उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी..वो संकल्प कहां है..अपने सांसद की ढिठाई पर कार्रवाई क्यों नहीं खैर योगी अभी नए हैं..जाने दीजिए...

      20 अप्रैल की रात आगरा में भी मुस्लिम सब्जीवाले से बवाल के बाद भगवाधारियों ने पुलिस थाना घेर लिया..सब इंस्पेक्टर के दांत तोड़ दिए..गाड़िया जला दीं..पुलिसवालों को जमकर बजाया..पुलिस ने भयानक बेजइज्जती के बाद FIR लिख ली...कुछ पकड़े गए ..कुछ नामजद हैं तमाम बेनाम लोगों के खिलाफ भी FIR दर्ज कर ली गई है..यूपी में पुलिस के मुखिया सुलखान सिंह भी नए हैं..यूपी के मुखिया योगी आदित्यनाथ भी नए हैं..ADG लॉ एंड ऑर्डर आदित्य जी भी नए हैं..सारे मंत्री भी नए हैं...बस प्राचीन दो ही चीजें बचती हैं एक सपा की धरोहर संभालने वाले भगवा गुंडे और आम आदमी जिसका हर सरकार के पाले हुए लोग पना बनाकर पी जाते हैं ??..यूपी ने पूर्ण से भी ज्यादा परिपूर्ण बहुमत दिया है..कह भी क्या सकते हैं बेचारे..क्योंकि दबा हुआ evm का बटन और मुंह से लगाए गए नारे कभी वापस नहीं आते..कोई और सरकार होती तो टीवियों और अखबारों में छप चुका होता कि यूपी में जंगल राज है..लेकिन अभी ना तो छपेगा ना दिखेगा..खैर लाल बत्ती गाड़ियों से उतारकर सबने सर पर भगवा बांध लिया है..



   यूपी में अपराधों की संख्या बलात्कारों की संख्या में कोई कमी नहीं आई है..दिन भर ऐसी खबरों की भरमार रहती है..जैसे होली में प्रतीक के तौर पर दुश्मन के गले मिल लेते हैं ठीक वैसे ही चैनलों में नई सरकार के सम्मान में प्रतीक स्वरूप अपराध की हेडलाइन लेने और योगी जी का नाम लेने में हिचक रहे हैं..टीआरपी के गेम में अभी योगी जी बिक रहे हैं..हिंदी और अंग्रेजी चैनल उनको बेच रहे हैं..लोग जो देखना चाहते हैं उनको दिखा रहे हैं...क्योंकि चैनल वो नहीं दिखा सकते जो वो दिखाना चाहते हैं..वो वही दिखाते हैं..जो आप देखना चाहते हैं..क्योंकि आपके मन को आपसे ज्यादा आपके घर के पास लगा बार्क (trp मापने वाला डब्बा) का डब्बा जानता है..टीवी के उस तरफ आप जमे रहिए..और टीवी के इस तरफ हम तो खैर कब से शुतुरमुर्ग का किरदार निभा ही रहे हैं...

https://www.youtube.com/channel/UC4w2wvJwyYS6waMxVsn5-yg इस पते पर हमारा यू ट्यूब चैनल भी सब्सक्राइब करिए..बेहतर राजनीतिक मनोरंजन वहां भी मौजूद है...धन्यवाद..असुविधा के लिेए खेद है...

Comments

Popular Posts