मायावती ने अपने सगे भाई आनंद को बीएसपी का उपाध्यक्ष बनाया


क्या बहन भाई को मुसीबतों से बचा लेगी ?

 क्या पद देकर जांच एजेंसियों से भाई  को प्रोटेक्ट कर ले जाएंगी मायावती ?

 अंबेडकर की 126वीं जयंती पर बहन कुमारी मायावती ने अपने बिजनेस मैन दागी भाई आनंद कुमार पर रक्षा का प्रत्यक्ष हाथ रख दिया है..मायावती ने ऐलान कर दिया है भाई आनंद कुमार बीएसपी के उपाध्यक्ष होंगे...साथ ही शर्त भी है कि आनंद कुमार न तो विधायक बनेंगे ना सांसद बनेंगे.. https://www.youtube.com/watch?v=Lo2m34ms1yQ

माया ने कहा कि बीजेपी मेरे भाई को परेशान करती है..उनके खिलाफ तमाम तरह की जांचे बिठा दी हैं..जांच एजेंसियों को पीछे लगा दिया है..लेकिन मेरा  भाई हार नहीं मानेगा इसलिए उनकी पार्टी में एंट्री की जा रही है.. क्या पार्टी में एंट्री होने से भाई आनंद कुमार को प्रोटेक्शन मिल जाएगा..क्या आनंद कुमार कथित आर्थिक भ्रष्टाचार को पार्टी फंड या राजनीतिक दलों को मिली टैक्स छूट के पीछे छुपा  ले जाएंगे..या मायावती ने बीएसपी वारिस प्लान तैयार  किया है..क्योंकि  पार्टी के भीतर माया  का कोई  अपना नहीं है..नसीमुद्दीन  सिद्दीकी और सतीश मिश्रा के अलावा..

मायावती के भाई आनंद कुमार पर आय से अधिक संपत्ति का आरोप है..आयकर विभाग और ईडी मामले की जांच कर रहा है..आनंद कभी नोएडा में क्लर्क हुआ करते थे.. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 2007 से पहले आनंद की एक कंपनी थी.. लेकिन जब 2007 में प्रदेश में बहन जी की  पूर्ण बहुमत सरकार आई उसके बाद आनंद ने लगातार 49 कम्पनियां खोली लीं..आनन्द कुमार की संपति में दिन-दुनी-रात चौगुनी बढोत्तरी हुई .. साक्षात कुबेर आनंद के आंगन में उतर  आए..2007 में माया के लाडले भाई  लगभग 7 करोड़ के मालिक थे.. वहीं 2014  आते-आते उनकी संपति बढ़कर 1 हजार 316 करोड़ रुपए पार  कर गई..पार्टी का उपाध्यक्ष बनाने के बाद बिजनेस मैन भाई आनंद कुमार को बीजेपी से या यूं  कहें  कि जांच एजेंसियों से प्रोटेक्शन मिलेगा या नहीं ये साफ नहीं है..लेकिन बिना किसी राजनीतिक अनुभव के सीधे पार्टी का उपाध्यक्ष बना देने से एक बात साफ है कि बीएसपी को वारिस मिल गया है..और मायावती भी परिवारवाद  के कॉलम  में एंटर कर गई हैं...

Comments