भगवा गमछे के बाद किसी और लाइसेंस की जरूरत नहीं : व्यंग्य



जो गमछा अब तक गांव की शान था..देहाती पने की पहचान था..केवल किसानों की आन था..वो योगी सरकार के बाद अब भगवा होकर स्टेटस सिंबल बन गया है..पार्किंग माफियाओं, ठेकेदार किस्म के लोगों और मोहल्ले के अबतक के सबसे निखट्टू लौंडे को..भगवा रंग के गमछे ने वो फील दिया है..जो गजनी पिक्चर में आमिर खान को संजय सिंघानिया जैसा बिजनेस टाईकून बनकर भी नहीं मिल पाया था...

 

भगवा गमछे के अपने फायदे हैं ये खाकी वर्दी वाले पुलिस वालों से बचाता है..सड़क पर खड़े सफेद वर्दी वाले मामाओं से भी प्रोटेक्ट कर देता है..जाम में फंसे होने पर पीछे से हॉर्न मार रहे आदमी को भी शांति से बता देता है कि भाई औकात में रह..उमस बहुत हो रही है इसलिए भगवा गमछा कभी-कभी गर्मी से भी बचाता होगा.. https://www.youtube.com/watch?v=m718tLUOaGs&t=2s


कहते हैं जैसे ही यूपी में बीजेपी जीती..वैसे ही कच्चे-पक्के रंग के सारे भगवा गमछे बिग गए..30 वाला 83 में और 50 वाला 150 में निकल गया..तमाम दुकानदार मन मसोसकर रह गए की प्याज की तरह भगवा गमछे की जमाखोरी कर ली होती..तो ऐसा मुनाफा शेयर बाजार भी नहीं दे पाता..सब एक साथ भाजपाई हो गए हैं..और तमाम कृष्ण भक्त रातोंरात राम की सेवा में लग गए..सबकी अपनी अपनी श्रद्धा है..लेकिन गमछा जीता जागता प्रमाण पत्र है कि वो योगी फैन हैं..वैसे भगवा रंग बीजेपी का भी है..सूट नीलाम होन से पहले..कभी नेहरू जैकेट भी चली थी..खैर एक योगी की सरकार में टुच्चे से किसान का अंगवस्त्र योगी फैन होने का फिनोमिना बना गया है.. 


https://www.youtube.com/channel/UC4w2wvJwyYS6waMxVsn5-yg (YOUTUBE चैनल पर जाएँ अच्छा लगे तो Subscribe करें)

Comments