पहले ‘पिता’ फिर ‘पति’ बने तिवारी

16 साल की जवानी का जुमला अब पुराना हो चुका है..अगर बुढ़ापे में भी धमाकेदार उत्साह का उदाहण ढ़ूंढ रहे हैं..तो यकीन मानिए तिवारी जी आपको निराश नहीं करेंगे..तिवारी जी के अथक प्रयासों से ये साबित हो गया कि प्यार और शादी का उम्र से कोई रिश्ता नहीं होता..बस इरादों में फौलाद होना चाहिए...

कहां तो तिवारी जी ये मान ही नहीं रहे थे कि रोहित उनका बेटा है...बेटे के हठ और कोर्ट के डंटे के आगे डैडी तिवारी जी  ने ये कुबूल किया कि हां-हां रोहित मेरे ही जिगर का टुकड़ा है..मेरा ही लाल है..मैं ही उसका बाप हूं..फिर बारी आई रोहित की मां की..उज्वला शर्मा लखनऊ के माल एवन्यू में कुछ दिन पहले ही तिवारी जी की ग्रर्लफ्रेंड के ओहदे से शिफ्ट हुईं थीं..अब सात फेरों के बाद उज्जवला को 88 साल का सुहाग मिला है..अब जाकर तिवारी जी करवाचौथ के व्रत से मिलने वाली लंबी उम्र के असली हकदार हुए हैं..


तिवारी जी पहले बाप बने..फिर पिता बने अब पति की भूमिका आए हैं..कामदेव के उपासकों को भी तिवारी जी से जलन हो रही होगी..कि उम्र की इस ढलान पर पौरुष के पुण्य प्रताप से मालिक ने केवल उन्हें की क्यों नवाजा..फिलहाल शादी हो गई है रिसेप्शन और हनीमून की खबर आते ही ब्रेकिंग बन जाएगी..टीवी ऑन रखिएगा पता चल जाएगा..

Comments

Popular Posts